fbpx
Wednesday, July 17, 2024
spot_img

Delhi Govt School: 9वीं में 1 लाख, 8वीं में 46 हजार और 11वीं में 50 हजार स्टूडेंट्स हुए फेल | Delhi government schools 1 lakh students failed in class 9th and more than 50 thousand students failed in class 11th


Delhi Govt School: 9वीं में 1 लाख, 8वीं में 46 हजार और 11वीं में 50 हजार स्टूडेंट्स हुए फेल

दिल्ली शिक्षा निदेशालय ने यह जवाब एक RTI में दिए हैं.Image Credit source: getty images

दिल्ली के सरकारी स्कूलों में शैक्षणिक सत्र 2023-24 में नौवीं कक्षा में पढ़ने वाले एक लाख से अधिक छात्र वार्षिक परीक्षा में फेल हो गए. इसी तरह आठवीं में 46 हजार से अधिक और 11वीं में 50 हजार से अधिक स्टूडेंट्स वार्षिक परीक्षा पास नहीं कर सके. दिल्ली शिक्षा निदेशालय ने यह जवाब एक आरटीआई में दिया है.

दिल्ली शिक्षा निदेशालय ने सूचना के अधिकार (आरटीआई) अधिनियम के तहत पीटीआई भाषा के संवाददाता द्वारा दायर एक आवेदन के जवाब में यह जानकारी दी है. दिल्ली में 1,050 सरकारी स्कूल और 37 डॉ बीआर अंबेडकर स्कूल ऑफ स्पेशलाइज्ड एक्सीलेंस स्कूल हैं.

किस सेशन में कितने हुए फेल?

प्राप्त जानकारी के अनुसार शैक्षणिक सत्र 2023-24 में दिल्ली सरकार के स्कूलों में नौवीं कक्षा में पढ़ने वाले 1,01,331 स्टूडेंट्स फेल हुए, जबकि 2022-23 में 88,409, 2021-22 में 28,531 और 2020-21 में 31,540 स्टूडेंट्स फेल हुए.

11वीं कक्षा में शैक्षणिक सत्र 2023-24 में 51914, 2022-23 में 54755, 2021-22 में 7246 और 2020-21 में केवल 2169 स्टूडेट्स बच्चे फेल हुए. निदेशालय के अनुसार शिक्षा के अधिकार के तहत नो-डिटेंशन पॉलिसी रद्द होने के बाद शैक्षणिक सत्र 2023-24 में आठवीं कक्षा में 46,622 स्टूडेंट्स फेल हुए हैं.

अगली क्लास में नहीं होंगे प्रमोट

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार दिल्ली शिक्षा विभाग के एक अधिकारी ने नाम न बताने की शर्त पर समाचार एजेंसी पीटीआई भाषा को बताया कि दिल्ली सरकार की नई ‘प्रोन्नति नीति’ के तहत पांचवीं से आठवीं कक्षा के विद्यार्थी अगर वार्षिक परीक्षा में फेल हो जाते हैं तो उन्हें अगली कक्षा में प्रोन्नत नहीं किया जाएगा, लेकिन उन्हें दोबारा परीक्षा के जरिए दो महीने के भीतर अपने प्रदर्शन में सुधार करने का एक और मौका मिलेगा.

उन्होंने आगे कहा कि पुन: परीक्षा में पास होने के लिए प्रत्येक विषय में 25 प्रतिशत नंबर प्राप्त करना आवश्यक है. ऐसा न करने पर छात्र को दोहराव श्रेणी में डाल दिया जाएगा, जिसका अर्थ है कि विद्यार्थी को अगले सत्र तक उसी कक्षा में रहना होगा.

ये भी पढ़ें – DU, JNU और BHU में अब शुरू होगा यूजी एडमिशन? यहां जानें पूरी डिटेल



RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

Most Popular