fbpx
Thursday, July 18, 2024
spot_img

JDU नेता की बेटी को चिराग कर रहे लॉन्च, जानिए कौन है शांभवी चौधरी जो समस्तीपुर से लड़ेंगी चुनाव? | Chirag Paswan launch Shambhavi Chaudhary will contest elections from Samastipur


JDU नेता की बेटी को चिराग कर रहे लॉन्च, जानिए कौन है शांभवी चौधरी जो समस्तीपुर से लड़ेंगी चुनाव?

पिता अशोक चौधरी के साथ शांभवी चौधरी

बिहार में चिराग पासवान की पार्टी लोक जनशक्ति (रामविलास) 5 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ रही है. पार्टी ने सभी सीटों पर अपने उम्मीदवार उतार दिए हैं. इसमें हाजीपुर लोकसभा से चिराग पासवान चुनावी मैदान में हैं. वहीं, जमुई से उनके बहनोई अरुण भारती के नाम पर पहले ही मुहर लग चुकी थी.

लोक जनशक्ति पार्टी रामविलास ने वैशाली, समस्तीपुर और खगड़िया सीट पर अपने प्रत्याशियों के नाम की घोषणा कर दी है. लोजपा (रामविलास) के उम्मीदवारों में चिराग पासवान, अरुण भारती, वीणा देवी, शांभवी चौधरी और राजेश वर्मा का नाम शामिल है. इन सीटों में सबसे ज्यादा लोगों की नजरे समस्तीपुर की सीट पर टिकी थीं. यहां से शाम्भवी चौधरी को एनडीए का उम्मीदवार बनाया गया है. फिलहाल चिराग के चचेरे भाई प्रिंस राज यहां से सांसद हैं.

कौन हैं शांभवी चौधरी

शांभवी चौधरी, जेडीयू नेता अशोक चौधरी की बेटी हैं. ये नितीश के बहुत करीबी माने जाते हैं. बता दें बीते दिनों शांभवी चौधरी के पति और अशोक चौधरी के दामाद शायन कुणाल ने चिराग पासवान से मुलाकात की थी. तभी से माना जा रहा था समस्तीपुर सीट पर शाम्भवी चौधरी ने अपनी दावेदारी और मजबूत कर ली है.

ये भी पढ़ें

शांभवी चौधरी ने लेडी श्रीराम कॉलेज और दिल्ली स्कूल ऑफ इकोनोमिक्स से पढ़ाई की हैं. इसके अलावा उन्होंने सोशियोलॉजी में पीएचडी कर रखी हैं. शांभवी चौधरी फिलहाल पटना के ज्ञान निकेतन स्कूल में डायरेक्टर के पद पर काम कर रही हैं. शांभवी चौधरी सामाजिक कार्यों में भी अपनी भूमिका निभाती हैं. बता दें कि शांभवी चौधरी पूर्व आईपीएस किशोर कुणाल की बहू हैं. शांभवी की शादी किशोर कुणाल के बेटे शायन से हुई है.

एक तीर से दो शिकार

चिराग और नड्डा की मुलाकात के बाद से माना जा रहा था कि प्रिंस राज का टिकट कट सकता है. ऐसे में लग रहा था लोजपा के प्रधान महासचिव संजय पासवान को यहां से चुनाव लड़ाया जा सकता है. लेकिन उनका ‘पासवान’ होना उनके लिए भारी पड़ गया. चिराग पासवान अब सिर्फ पासवानों के नेता नहीं बनना चाहते बल्कि वो अपना बढ़ाना चाहते हैं और एक बड़े दलित नेता की छवि में उभारना चाहते हैं. शांभवी चौधरी की शादी एक भूमिहार परिवार में हुई है. शांभवी को लांच करके टिकट देकर उन्होंने भूमिहारों अपनी ओर खींच लिया है. दरअसल चिराग पासवान पर लगातार भूमिहार विरोधी होने का आरोप लगता आया है. अपने इस फैसले से उन्होंने एक तीर से दो शिकार कर लिए है.



RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

Most Popular