fbpx
Sunday, July 14, 2024
spot_img

प्रोफेशनल या निजी लाइफ में आलोचनाओं का कैसे करें सामना? एक्सपर्ट से जानिए | how to handle criticism in professional and life


प्रोफेशनल या निजी लाइफ में आलोचनाओं का कैसे करें सामना? एक्सपर्ट से जानिए

आलोचनाओं का सामना

Handle Criticism: आलोचना सुनने के लिए दिल को बड़ा करना जरूरी है. लेकिन गलत होने के बाद अपनी बुराइयां या आलोचना सुनना किसी को पसंद नहीं होता. इस वजह के कई बार लोगों के बीच मन-मुटाव हो जाते हैं. कई बात तो ये इतने बढ़ जाते हैं कि लोगों के बीच लड़ाई-झगड़े तक शुरू हो जाते हैं. आलोचनाओं को लोग पर्सनल अटैक की तरह ले लेते हैं. लेकिन कोई इंसान आपकी आलोचना क्यों कर रहा है, इसके पीछे का मकसद समझना जरूरी होगा.

दिल्ली की जानीृ-मानी साइकोलॉजिस्ट डॉ. दामिनी ग्रोवर का कहना है कि जब तक हम आलोचनाओं के पीछे की वजहों को नहीं समझेंगे, हम लोगों को दोष देते रहे हैं. इसके साथ ही, आपकी आलोचना किस इंसान की ओर से की जा रही है, इसके बारे भी समझना जरूरी है. जब आप इस पर गौर करेंगे तो किसी भी चीज़ का बुरा नहीं लगेगा. आइए माइंड कोच और साइकोलॉजिस्ट डॉ. दामिनी से जानते हैं कि आलोचनाओं को कैसे हैंडल करें.

शांत व्यवहार

आलोचनाओं के दौरान जाहिर सी बात है कि गुस्सा आ सकता है. लेकिन इस स्थिती में भी लंबी और गहरी सांस लें. इसके साथ ही, सामने वाले इंसान पर किसी भी तरह का गुस्से वाला रिएक्ट करें. इसके साथ ही, खुद को इमोश्नली तैयार रखें.

हर आलोचना सिखाती है

डॉ. दामिनी कहती हैं कि हर आलोचना आपको कुछ न कुछ सिखाती है. अगर कोई समझदार इंसान आलोचना करता है तो गुस्सा करने की बजाय उनकी बातों को सहजता से स्वीकार करें. आलोचना का मतलब हर बार दिल दुखाना ही नहीं बल्कि गलती के बारे में बताना होता है.

सकारात्मक सोच

हेल्थ एक्सपर्ट कहते हैं कि आलोचनाओं को हमेशा पॉजीटिव सोच से डील करें. ये बात सही है कि आलोचनाएं मन के भाव को बदल देती हैं. लेकिन सामने वाले की बात को समझते हुए कम से कम उस समय तक चीजों को कंट्रोल करके रखें.

फीडबैक लें

डॉ. दामिनी कहती हैं कि आलोचनाओं को गलत तरीके से लेने की बजाय आप फीडबैक लें. इससे आप खुद को बेहतर तरीके ग्रूम करने में मदद कर सकते हैं



RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

Most Popular