fbpx
Thursday, July 18, 2024
spot_img

Zahirabad Lok Sabha Seat: BRS के गढ़ में सेंधमारी लगाने की तैयारी में BJP कांग्रेस, जानें सियासी समीकरण | telangana Zahirabad Lok Sabha Constituency history Know about political equations bjp brs congress stwas


जहीराबाद लोकसभा क्षेत्र तेलंगाना के 17 लोकसभा क्षेत्रों में से एक है. जहीराबाद लोकसभा BRS (भारत राष्ट्र समिति) का गढ़ है. 2014 और 2019 के लोकसभा चुनाव में BRS ने इसी सीट पर जीत दर्ज की थी. हालांकि 2009 के चुनाव में उसे हार मिली थी. 2009 में कांग्रेस को इस सीट पर सफलता मिली थी. कांग्रेस के सुरेश कुमार शेटकर ने BRS तब TRS के सैयद यूसुफ अली को हराया था. अब राज्य में कांग्रेस की सरकार है, तो 2024 के चुनाव में BRS को कांग्रेस और BJP से इस सीट पर टक्कर मिल सकती है.

जहीराबाद तेलंगाना के संगारेड्डी जिले का एक प्रमुख नगर है. जहीराबाद लोकसभा 2008 में पहली बार अस्तित्व में आई थी. इसे मेडक जिले का वाणिज्यिक केंद्र भी बनाया गया है. इसका प्राचीन नाम ‘बादी एककेली’ माना जाता है. इस क्षेत्र में भगवान शिव का एक प्राचीन मंदिर है, जिसे ‘झारसंगम’ कहा जाता है. धर्मावलंबी इस क्षेत्र को दक्षिण का काशी भी कहते हैं. ऐतिहासिक और धार्मिक महत्व के कारण कर्नाटक, महाराष्ट्र और आंध्र प्रदेश के लोग यहां आते हैं. हैदराबाद से जहीरबाद की दूरी 114 किलोमीटर दूर है. नई दिल्ली से इस क्षेत्र की दूरी 1,621 किलोमीटर है.

जहीराबाद लोकसभा क्षेत्र में 7 विधानसभा सीटें

जहीराबाद लोकसभा सीट 2008 में अस्तित्व में आई थी. इसमें मेडक जिले की तीन विधानसभा सीट और कामारेड्डी जिले की चार विधानसभा सीट शामिल हैं. कुल 7 विधानसभा सीटें इस लोकसभा के अंतर्गत आती हैं. इस लोकसभा क्षेत्र की कुल जनसंख्या करीब 15 लाख है. इसमें 7,60,462 पुरुष वोटर हैं, जबकि महिला मतदाताओं की संख्या 7,38,143 है. वहीं थर्ड जेंडर के मतदाता 61 हैं.

2019 में BRS प्रत्याशी ने दर्ज की थी जीत

2019 में कुल 10 लाख 44 हजार 365 मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया था, जिनमें से कुल पुरुष मतदाता 5,14,518 और महिला मतदाता 5,29,323 थीं. 2019 में कुल मतदान प्रतिशत 69.69% था. BRS तब TRS के बी.बी.पाटिल ने कांटे के मुकाबले में कांग्रेस उम्मीदवार मदन मोहन राव को करीब 6 हजार वोटरों से हराया था. बी.बी.पाटिल को 4,34,244 वोट मिले थे, जबकि मदन मोहन राव को 4,28,015 वोट मिले थे. फिलहाल बी.बी. पालिट ने 2024 लोकसभा चुनाव से पहले BRS छोड़ BJP जॉइन कर ली है. BJP ने जहीराबाद से उन्हें अपना उम्मीदवार भी बनाया है.

केथकी संगमेश्वर स्वामी का प्रसिद्ध मंदिर

जहीराबाद में भगवान शिव का एक प्राचीन मंदिर है, जिसे ‘झारसंगम’ कहा जाता है. ये मंदिर संगारेड्डी जिले के झरासंगम गांव में केथकी संगमेश्वर स्वामी नाम से प्रसिद्ध है. कहा जाता है कि यहां शिवलिंग की स्थापना भगवान ब्रह्मा ने की थी. ऐसा कहा जाता है कि सूर्य वंश के राजा कुपेंद्र त्वचा रोग से पीड़ित थे. उनकी ये बीमारी दूर नहीं हो रही थी. एक दिन वह अपने नियमित शिकार के दौरान केथकी वनम तक पहुंच गए और वहां उनको एक जलधारा मिली. उस जलधारा में उन्होंने अपना शरीर धोया.

राजा कुपेंद्र ने घर पहुंचने के बाद देखा त्वचा रोग पूरी तरह से ठीक हो गया है. रात में भगवान संगमेश्वर ने राजा कुपेंद्र को सपने में दर्शन दिए और राजा से शिव लिंगम के ऊपर एक अभयारण्य बनाने के लिए कहा. राजा कुपेंद्र ने शिव लिंगम के ऊपर मंदिर का निर्माण किया और धारा को पुष्करिणी में बदल दिया. इसे आस्था तीर्थ ‘अमृत गुंडम’ भी कहा जाता है. इसे दक्षिणा काशी भी कहा जाता है.



RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

Most Popular