fbpx
Wednesday, July 17, 2024
spot_img

Tenkasi Lok Sabha Seat: 1991 तक तेनकाशी कांग्रेस का किला, अब लहरा रहा DMK का झंडा | Tenkasi lok sabha election 2024 bjp aiadmk dmk congress stwar


Tenkasi Lok Sabha Seat: 1991 तक तेनकाशी कांग्रेस का किला, अब लहरा रहा DMK का झंडा

तेनकासी में लगातार 9 बार जीती कांग्रेसImage Credit source: tv9 भारतवर्ष

तमिलनाडु की तेनकासी लोकसभा सीट देश के 543 और सूबे के 39 सीटों में से एक है. यह सीट अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित है. यह सीट कभी कांग्रेस पार्टी का गढ़ हुआ करता था. यहां हुए पहले चुनाव 1957 से लेकर 1991 तक लगातार नौ चुनाव में कांग्रेस पार्टी ने जीत दर्ज की. 1977 में इमरजेंसी कें दौरान भी यहां कांग्रेस पार्टी को हार नहीं मिली थी. लेकिन 1991 के बाद जब जनता ने कांग्रेस से मुंह फेर लिया तब से अबतक कांग्रेस यहां वापसी नहीं कर पाई है. वर्तमान में डीएमके के धनुष एम.कुमार तेनकासी के सांसद हैं. धनुष एम. कुमार ने अन्नाद्रमुक के डॉ. के. कृष्णासामी को हराया है.

धनुष एम. कुमार को जहां 45.11 प्रतिशत मत मिले हैं वहीं डॉ. के. कृष्णासामी को 33.67% मत. तीसरे स्थान पर रहे एएमएमके एस. पोन्नुथाई को 8.73% जबकि चौथे स्थान पर रहे एनटीके के एसएस मथिवनन को 5.63% वोट मिले. पांचवे स्थान पर रहे एमएनएम के मुनेश्वरन को महज 2.28 प्रतिशत वोट ही मिले.

2019 में 1,20,767 से DMK की जीत

2019 में हुए चुनाव में डीएमके के धनुष एम.कुमार ने अन्नाद्रमुक के डॉ. के. कृष्णासामी 1,20,767 वोटों से हराया. धनुष एम.कुमार को जहां 476,156 वोट मिले वहीं डॉ. के. कृष्णासामी को 3,55,389 वोट मिले. तीसरे स्थान पर रहे एएमएमके के एस. पोन्नुथाई को 92,116 वोट मिले थे. चौथे स्थान पर रहे एनटीके के एसएस मथिवनन को 59,445 और पांचवे स्थान पर रहे एमएनएम के, के मुनेश्वरन को 24,023 वोट मिले थे.

ये भी पढ़ें

तेनकासी का चुनावी इतिहास

तेनकासी में सबसे पहले 1957 में चुनाव हुआ. तब यहां कांग्रेस पार्टी के एम. शंकरपांडियन ने जीत दर्ज की. इसके बाद 1962 में एमपी स्वामी,1967 में आरएस अरुमुगम, 1971 में एएम चेल्लाचामी, इसके बाद 1977 से लेकर 1996 तक एम. अरुणाचलम यहां के सांसद बने. एम. अरुणाचलम ने पांच बार कांग्रेस और 1996 में तमिल मनीला कांग्रेस की टिकट पर जीत दर्ज की 1998 और 1999 में अखिल भारतीय अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम की टिकट पर यहां से एस. मुरुगेसन ने जीत दर्ज की. इसके बाद लगातार दो बार 2004 और 2009 में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी, 2014 में अखिल भारतीय अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम से एम वसंती और 2019 में डीएमके से धनुष एम कुमार ने जीत दर्ज की.

तेनकासी का वोट गणित

2011 की जनगणना के अनुसार तेनकासी जिले की आबादी 1,384,937 है. इसमें अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति 20.23% और 0.25% शामिल हैं. यहां मुस्लिम मतदाताओं की संख्या 7.4% और ईसाई मतदाताओं की संख्या 8.57% है. आंकड़ों पर गौर करें तो यहां ग्रामीण मतदाताओं की संख्या 775,740 यानी 52.1% और शहरी मतदाताओं की संख्या 713,204 यानी 47.9% है. तेनकासी की 42.75% आबादी शहरी क्षेत्रों में रहती है. यहां की 98.78% तमिल बोलती है . तेनकासी लोकसभा के अन्तर्गत छह विधानसभा क्षेत्र- शंकरनकोविल, वासुदेवनल्लूर, कदयानल्लूर, राजपालयम, श्रीविल्लिपुथुर और तेनकासी शामिल है. यहां कुल 14,92,317 मतदाता हैं. इनमें पुरुष मतदाताओं की संख्या 7,56,432 जबकि महिला मतदाताओं की संख्या 7,35,807. जबकि थर्ड जेंडर निर्वाचक 78 हैं. 2019 में यहां कुल मतदान प्रतिशत 71.37% था. 2024 में डीएमके ने डॉ रानी श्रीकुमार, एआईडीएमके ने डॉ. के. कृष्णासामी, बीजेपी- बी जॉन पांडियन,एनटीके ने एसएस मथिवनन को मैदान में उतारा है.

तेनकासी पांड्य राजवंश की अंतिम राजधानी

तेनकासी पांड्य राजवंश की अंतिम राजधानी है. यह दक्षिण तमिलनाडु का एक महत्वपूर्ण आध्यात्मिक और सांस्कृतिक शहरों में से एक है. यहां कुत्रलेश्वर मंदिर जो भगवान शिव के अवतार भगवान नटराज की पांच सभाओं में से एक है. इसके साथ ही तेनकासी में उलगाम मंदिर, अकुडी बालासुब्रमण्यम मंदिर, तिरुमलापुरम रॉक-कट गुफा मंदिर, कुटरलम फॉल्स, गुनदर डैम यहां के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल हैं.



RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

Most Popular