fbpx
Thursday, July 18, 2024
spot_img

पैन कार्ड से हुई धोखाधड़ी, कॉलेज स्टूडेंट के नाम पर हुआ 40 करोड़ का लेनदेन, मिला इनकम टैक्स नोटिस | Pan Card Fraud MP Student Gets Income Tax Notice For 40 Crore Transaction


पैन कार्ड से हुई धोखाधड़ी, कॉलेज स्टूडेंट के नाम पर हुआ 40 करोड़ का लेनदेन, मिला इनकम टैक्स नोटिस

पैन कार्ड के नाम पर हुई धोखाधड़ी

क्या ऐसा हो सकता है कि आपके पैन कार्ड डिटेल्स के नाम पर कोई अनजान 40 करोड़ रुपए का ट्रांजेक्शन कर दे और फिर इनकम टैक्स आपसे सवाल पूछे, वो भी तब जब आप एक कॉलेज स्टूडेंट हों और आपके पास आय का कोई साधन ना हो. मध्य प्रदेश के ग्वालियर जिले में एक कॉलेज स्टूडेंट के साथ ऐसा ही पैन कार्ड फ्रॉड हुआ है और उसे इनकम टैक्स विभाग से नोटिस मिला है. आखिर क्या है पूरा मामला…?

ये घटना ग्वालियर की जीवाजी यूनिवर्सिटी के एक स्टूडेंट प्रमोद दंडोतिया के साथ घटी है. उसके पैन कार्ड डिटेल्स का इस्तेमाल करके एक कंपनी ने 40 करोड़ रुपए का लेनदेन किया है, जिस पर अब इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने नोटिस भेज दिया है. हालांकि प्रमोद दंडोतिया ने पैन कार्ड के नाम पर हुई इस धोखाधड़ी के लिए पुलिस में मामला दर्ज कराया है.

धोखाधड़ी तो की ही, जीएसटी भी नहीं चुकाया

पुलिस के मुताबिक एक अज्ञात व्यक्ति ने प्रमोद दंडोतिया की पैन कार्ड डिटेल्स का इस्तेमाल एक कंपनी बनाई. फिर इस कंपनी ने 40 करोड़ रुपए से अधिक के ट्रांजेक्शन किए हैं. इतना ही नहीं, इस कंपनी ने जीएसटी भी नहीं चुकाया है. इसी 40 करोड़ के ट्रांजेक्शन के आधार पर प्रमोद दंडोतिया को इनकम टैक्स विभाग का नोटिस मिला है. हालांकि अब उसकी शिकायत दर्ज कर ली है.

ये भी पढ़ें

ग्वालियर के एडीशनल पुलिस सुपरिटेंडेंट शियाज़ केएम ने बताया, ” प्रमोद दंडोतिया की शिकायत के मुताबिक कंपनी ने उसकी पैन डिटेल्स का गलत इस्तेमाल किया. उसने ये शिकायत उसे आयकर विभाग का नोटिस मिलने के बाद दर्ज करवाई है.”

पोस्ट ग्रेजुएशन के स्टूडेंट हैं प्रमोद

प्रमोद दंडोतिया जीवाजी यूनिवर्सिटी से पोस्ट ग्रेजुएशन कर रहे हैं. उन्हें 27 जनवरी को आयकर नोटिस मिला था, जो 46 करोड़ रुपए के ट्रांजेक्शन को लेकर मिला था. इसके बाद उन्होंने इनकम टैक्स और जीएसटी डिपार्टमेंट को संपर्क किया. जहां से पता चला कि उनके नाम पर दिल्ली और पुणे में एक कंपनी रजिस्टर है, जो ये ट्रांजेक्शन कर रही है. उन्होंने बताया कि उनकी अपनी ऐसी कोई कंपनी नहीं है. तब आयकर अधिकारियों ने उनसे इस मामले में पुलिस केस दर्ज करने के लिए कहा.



RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

Most Popular