fbpx
Sunday, July 14, 2024
spot_img

Surendranagar Lok Sabha Seat: सुरेंद्रनगर पहले था कांग्रेस का किला, अब BJP का बना गढ़, लहरा रहा भगवा | Surendranagar lok sabha election 2024 bjp congress somabhai patal Chandubhai Shihora stwar


Surendranagar Lok Sabha Seat: सुरेंद्रनगर पहले था कांग्रेस का किला, अब BJP का बना गढ़, लहरा रहा भगवा

सुरेंद्र नगर में कांग्रेस ने लगातार करती रही है जीत दर्जImage Credit source: tv9 भारतवर्ष

सुरेंद्रनगर लोकसभा सीट देश के 543 और गुजरात के 26 लोकसभा सीट में से एक है. अहमदाबाद से सटे सुरेंद्रनगर लोकसभा क्षेत्र को हाईटेक बंगलों के लिए जाना जाता है. सुरेंद्र नगर कभी कांग्रेस पार्टी का गढ़ हुआ करता था. यहां अबतक हुए 15 चुनावों में कांग्रेस पार्टी ने सात बार जीत दर्ज की है. पिछले 2 बार से यहां बीजेपी जीत दर्ज कर रही है. 2019 में हुए लोकसभा चुनाव में बीजेपी के महेंद्र मुंजापारा ने जीत दर्ज की है. महेंद्र मुंजापारा ने सोमाभाई गंडालाल कोली पटेल को हराया था.

डॉ.महेंद्र मुंजापाराभाई को 58.6% मत मिले थे जबकि कांग्रेस पार्टी के कोली पटेल सोमाभाई गंडालाल को 32.9% मत मिले. तीसरे स्थान पर रहे बीएसपी शैलेश एन. सोलंकी को 1.2% वोट मिले. चौथे स्थान पर रहे निर्दलीय दोस्त मेर को 1.0% और पांचवे स्थान पर एनसीपी के घोघाजीभाई कांजीभाई को महज 0.8% वोट मिले थे.

2019 में डॉ. महेंद्र मुंजापारा ने सोमाभाई गंडालाल कोली पटेल को 2,77,437 को वोटों से हराया था. डॉ. महेंद्र मुंजापारा को 631,844 तो वहीं कांग्रेस उम्मीदवार सोमाभाई पटेल को 3,54,407 वोट मिले. तीसरे स्थान पर रहे बीएसपी के शैलेश एन.सोलंकी 12,860, निर्दलीय दोस्त मेर को 11,103 वोट मिले थे. इससे पहले 2014 में यहां देवजीभाई फतेपरा ने कांग्रेस के सोमाभाई गंडालाल कोली पटेल को 2,02,907 वोटों से हराया था. बीजेपी के देवजीभाई फतेपरा को 5,29,003 जबकि कांग्रेस के सोमाभाई गंडालाल कोली पटेल 3,26,096 वोट मिले थे. तीसरे स्थान पर रहे निर्दलीय विपुलभाई सपरा 14524 वोट मिले थे.2014 में आम आदमी पार्टी के विपुलभाई सपरा को 13,375 वोट मिले थे.

ये भी पढ़ें

सुरेंद्रनगर लोकसभा का चुनावी इतिहास

सुरेंद्रनगर लोकसभा में सबसे पहले 1962 में चुनाव हुआ था तब कांग्रेस पार्टी के घनश्यामभाई छोटेलाल ओझा ने यहां जीत दर्ज की थी. इसके बाद 1967 में निर्दलीय मेघराजजी, 1971 में कांग्रेस के रसिकलाल पारिख. 1977 में अमीन रामदास किशोरदास, 1980 और 1984 में कांग्रेस पार्टी के दिग्विजयसिंह झाला यहां से चुनकर संसद पहुंचे. 1989 और 1991 में बीजेपी की टिकट पर सोमाभाई गंडालाल कोली पटेल ने जीत दर्ज की थी. इसके बाद 1996 में हुए चुनाव में कांग्रेस पार्टी के सनत मेहता, 1998 में बीजेपी के भावना दवे, 1999 में कांग्रेस के सावशीभाई मकवाणा. फिर 2004 में बीजेपी की टिकट पर और 2009 में कांग्रेस की टिकट पर लगातार सोमाभाई गंडालाल कोली पटेल लोकसभा पहुंचे.

सुरेंद्रनगर लोकसभा का वोट गणित

करीब 24,137,23 आबादी वाले सुरेंद्रनगर में 74.31% आबादी ग्रामीण है और 25.69% शहरी है.कोली पटेल समुदाय बहुल इस सीट पर सोमाभाई पटेल ने बीजेपी और कांग्रेस दोनों के टिकट पर चार बार जीत दर्ज की है. सुरेंद्रनगर लोकसभा सीट के अंतर्गत- लिंबड़ी, वाधवां, दसाडा, विरंगम, ध्रांगध्रा, चोटिला और धांधुका विधानसभा सीट हैं. दसाडा सीट एससी वर्गके लिए आरक्षित है. इस लोकसभा क्षेत्र में कुल 18,49,429 हैं इसमें पुरुष मतदाताओं की संख्या 8,78,118 जबकि महिला मतदाताओं की संख्या 8,78,118 है.थर्ड जेंडर निर्वाचक-33 हैं. यहां अनुसूचित जाति 9.99 प्रतिशत और अनुसूचित जनजाति 1.04 प्रतिशत है. जबकि मुस्लिम आबादी करीब 7 फीसदी है. 2019 में यहां कुल 58.27% मतदान हुआ था. बीजेपी ने यहां कोली समुदाय से आने वाले 62 वर्षीय चंदूभाई शिहोरा को मैदान में उतारा है.

सुरेंद्रनगर शहर गुजरात के हाई-टेक बंगलों के शहर के रूप में जाना जाता है. यहां कपास का काम बड़े स्तर पर होता है इसलिए इसे कपास हब भी कहा जाता है. बताया जाता है कि यह दुनिया का सबसे बड़ा कपास निर्माता केंद्र है. बात यहां के दर्शनीय स्थलों की करें तो धाम मंदिर, धानकी, हवा महल, नल सरोवर, नावा सूरजदेवल, राज राजेश्वरी धाम, पिपली रामदेवपीर मंदिर यहां के कुछ प्रमुख स्थल हैं.



RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

Most Popular