fbpx
Sunday, July 14, 2024
spot_img

Lok sabha election 2024 mp st hasan react on asaduddin owaisi claims on akhilesh yadav moradabad seat | ओवैसी ने पहले ही बताया था मेरा टिकट कट जाएगा… एसटी हसन का छलका दर्द


ओवैसी ने पहले ही बताया था मेरा टिकट कट जाएगा... एसटी हसन का छलका दर्द

औवैसी और एसटी हसन

अखिलेश यादव और असदुद्दीन ओवैसी के बीच छत्तीस का आंकड़ा रहा है, लेकिन समाजवादी पार्टी के नेता अब ओवैसी का गुणगान करने लगे हैं. समाजवादी पार्टी के सांसद एस टी हसन का दावा है कि ओवैसी जो कहते हैं, सच कहते हैं. AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने सोशल मीडिया में पोस्ट कर अखिलेश यादव पर गंभीर आरोप लगाए हैं. उनका कहना है कि अखिलेश जैसे नेता मुस्लिम लीडरशीप को खत्म करना चाहते हैं.

उनका दावा है कि उन्होंने ये बातें एस टी हसन से लोकसभा में कही थी. समाजवादी पार्टी के नेता एसटी हसन ने कहा, ओवैसी सही कह रहे हैं. एस टी हसन ने ये भी बताया कि ओवैसी ने उनसे कहा था कि अखिलेश आपका टिकट काट देंगे. आखिरकार ऐसा ही हुआ.

अखिलेश यादव और आजम खान के झगड़े में एस टी हसन का टिकट कट गया है. अब इस झगड़े में असदुद्दीन ओवैसी की एंट्री हो गई है. वो फिर से दरी बिछाने के एजेंडे पर आ गए हैं. AIMIM के चीफ़ ओवैसी का आरोप है कि समाजवादी पार्टी के सिर्फ़ मुस्लिम वोट से मतलब है. उन्हें मुस्लिम नेताओं से कोई मतलब नहीं है. ओवैसी ने कहा कि समाजवादी पार्टी में मुसलमानों की हैसियत सिर्फ़ दरी बिछाने की है.

मुस्लिम लीडरशिप को खत्म करना चाहते हैं अखिलेश

ओवैसी का दावा है कि उन्होंने बहुत पहले ही एस टी हसन को बता दिया था कि उनका टिकट कटेगा. उनका कहना है कि भैया पर जान कुरबान के नारे लगा कर मुसलमान समाजवादी पार्टी में अपना समय बर्बाद करते हैं. ओवैसी ने आरोप लगाया कि अखिलेश यादव जान बूझकर मुस्लिम लीडरशिप खत्म करना चाहते हैं. असदुद्दीन ओवैसी ने सोशल मीडिया प्लेटफ़ार्म X पर पोस्ट कर गंभीर आरोप लगाए हैं.

सपा ने मुरादाबाद से रुचिवीरा को दिया टिकट

मुरादाबाद से समाजवादी पार्टी के सांसद डॉक्टर एस टी हसन का टिकट कल कट गया, जबकि उन्होंने बीते मंगलवार को ही नामांकन कर दिया था. इसके बावजूद समाजवादी पार्टी ने उनके बदले रुचिवीरा को टिकट दे दिया. इसके लिए लखनऊ से चार्टर्ड प्लेन मुरादाबाद भेजा गया. रुचिवीरा को आज़म खान का करीबी नेता माना जाता है. रुचिवीरा के लिए जेल में बंद आजम खान ने सारे घोड़े खोल दिए थे. अखिलेश यादव को आज़म खान के सामने झुकना पड़ा. एस टी हसन का टिकट काटकर रुचिवीरा को देने के मामले को असदुद्दीन ओवैसी मुद्दा बनाने में जुटे हैं. मामला मुसलमानों का हो तो अखिलेश को घेरने का मुद्दा ओवैसी कभी नहीं छोड़ते हैं.

UP में AIMIM के चुनाव लड़ने की हो रही मांग

असदुद्दीन ओवैसी ने अब तक यूपी से अपनी पार्टी का कोई उम्मीदवार नहीं दिया है. वे बीएसपी सुप्रीमो मायावती के खिलाफ कभी नहीं बोलते पर अखिलेश को कभी नहीं छोड़ते हैं. जब यूपी में अखिलेश की सरकार थी, तब ओवैसी को रैली करने की इजाज़त कभी नहीं मिली. ओवैसी के लिए अखिलेश कहा करते हैं कि उनकी वजह से सांप्रदायिक ध्रुवीकरण होता है. पिछले साल हुए मेयर के चुनाव में कुछ जगहों पर AIMIM ने अच्छा प्रदर्शन किया था. उनकी पार्टी के लोग यूपी में लोकसभा चुनाव लड़ने की मांग कर रहे हैं, लेकिन ओवैसी अब तक इसके लिए तैयार नहीं हुए हैं.



RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

Most Popular