fbpx
Wednesday, July 17, 2024
spot_img

Kozhikode Lok Sabha Seat: कांग्रेस और वाम दल की टक्कर में किसकी होगी जीत, क्या बनेगा नया रिकॉर्ड? | lok sabha election 2024 Kozhikode Lok Sabha Seat candidate congress cpim bjp


Kozhikode Lok Sabha Seat: कांग्रेस और वाम दल की टक्कर में किसकी होगी जीत, क्या बनेगा नया रिकॉर्ड?

कोझिकोड लोकसभा सीट

कोझिकोड लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र, जिसे कालीकट के नाम से भी जाना जाता है, केरल राज्य में मालाबार तट पर स्थित है. यह निर्वाचन क्षेत्र अपनी सांस्कृतिक महत्व, सामाजिक-सांस्कृतिक परिदृश्य और समृद्ध राजनीतिक इतिहास के लिए प्रसिद्ध है. कोझिकोड शहर का एक समृद्ध इतिहास और सांस्कृतिक विरासत है, जो इस क्षेत्र के सामाजिक-सांस्कृतिक परिदृश्य को जोड़ता है. खास तौर पर, कोझिकोड अपने उदार आतिथ्य, खाना, फिल्म और भी बहुत सी चीजों के लिए प्रसिद्ध है. राजनीति परिदृश्य से देखें तो इस निर्वाचन क्षेत्र पर अधिकतर कांग्रेस और वाम दल के बीच ही लड़ाई देखने को मिलती है.

2019 के लोकसभा चुनाव में कोझिकोड लोकसभा क्षेत्र में कांटे की टक्कर देखने को मिली थी. कांग्रेस के एम.के.राघवन कुल 493,440 वोट हासिल करके विजयी हुए थे. उन्होंने भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) के ए. प्रदीप कुमार को हराया, जिन्होंने 408,219 वोट हासिल किए थे. वहीं, भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी एडवोकेट प्रकाश बाबू को 1,61,216 वोट मिले थे. बात करे वोट शेयर की तो 2019 आम चुनाव में कांग्रेस का वोट शेयर 45.97 प्रतिशत रहा. CPI(M) का वोट शेयर 37.92 प्रतिशत और बीजेपा का 15.53 प्रतिशत रहा है.

गौरतलब है कि इस सीट पर भी बीजेपी कभी अपनी जीत नहीं दर्ज कर पाई है. 2004, 2014, 2019 इन तीनों आम चुनावों में बीजेपी तीसरे स्थान पर रही है. हालांकि, रणनीतिक तौर पर भाजपा ने कई तरकीब लगाई, अपने प्रत्याशी भी बदले लेकिन हर बार उन्हें हार का सामना करना पड़ा.


राजनीतिक इतिहास

कोझिकोड लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में 1957 से पहले के चुनावों के इतिहास के साथ एक गतिशील राजनीतिक परिदृश्य है. पिछले कुछ सालों में, इस निर्वाचन क्षेत्र ने महत्वपूर्ण राजनीतिक लड़ाई देखी है और यह संस्कृतियों और जनसांख्यिकी के जीवंत मिश्रण के लिए जाना जाता है, जो इसके महत्व में योगदान देता है. 2019 के लोकसभा चुनाव में, कांग्रेस के राघवन 4,93,444 वोटों के साथ विजेता बने थे, उन्होंने सीपीआई (एम) के ए. प्रदीप कुमार को हराया, जिन्होंने 408,219 वोट हासिल किए थे. भाजपा प्रत्याशी एडवोकेट प्रकाश बाबू को 161,216 वोट मिले, जबकि नोटा विकल्प को 3,473 वोट मिले थे.

95.24 लिटरेसी रेट

कोझिकोड को केंद्र सरकार द्वारा टियर 2 शहर के रूप में मान्यता दी गई है. वहीं, जिले को कुल 4 तालुकों में बांटा गया है – कोझिकोड, वतकारा, थमारस्सेरी और कोयिलैंडी. अगर नजर डालें पंचायतों पर तो कोझिकोड में 12 ब्लॉक पंचायत हैं. जिले की जनसंख्या 32,49,761 है और लिटरेसी दर 95.24 प्रतिशत है. यहां पर मुख्य तौर पर मलयालम भाषा ही बोली जाती है लेकिन इसके अलावा भी कुछ भाषाएं यहां पर सुनने को मिलती हैं.

कोझिकोड की तीन लोकसभा सीटें हैं – वटकरा, कोझिकोड और वायनाड. वहीं बात विधानसभा सीटों की करें तो इसकी संख्या 13 है. जिले को राज्य का सबसे बड़ा आर्थिक केंद्र माना जाता है क्योंकि यहां से आयात-निर्यात बड़ी मात्रा में होता है. केरल राज्य की तकरीबन 8 प्रतिशत जनसंख्या कोझिकोड में ही रहती है. जिले का कारोबार राज्य के राजस्व में काफी बड़ी भागीदारी प्रदान करता है. राज्य की कुल आय का तकरीबन 12 प्रतिशत योगदान कोझिकोड का होता है.

राजनीतिक दल नियम

भारतीय राज्य केरल में कोझिकोड लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कई सालों से कई राजनीतिक दलों द्वारा किया गया है. 2004 में जनता दल के प्रत्याशी ने यहां से जीत दर्ज की थी. इससे पहले साल 1996 में भी जनता दल ने कोझिकोड की राजनीतिक बागडोर संभाली थी. वाम दल यानी CPI ने 1980 में यहां से जीत दर्ज की थी. इसके अलावा 1962 से 1971 तक यहां पर इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग का दबदबा था.



RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

Most Popular